Welcome to Prerak Jagat

Place for Inspirational, Motivational, Stories and Success Mantra

Monday, November 21, 2016

गाली का जवाब


भगवान  बुद्ध  एक  दिन  अपने  एक  शिष्य  के  साथ  सुबह  की  सैर  कर  रहे  थे । तभी  अचानक   एक  आदमी  उनके पास  आया  और  भगवान  बुद्ध  को  बुरा  भला  कहने  लगा । उसने  बुद्ध  के  लिए  बहुत  सारे  अपशब्द  कहे  लेकिन बुद्ध  फिर  भी  मुस्कुराते  हुए  चलते  रहे । उस  आदमी  ने  देखा  कि  बुद्ध  पर  कोई   भी  असर  नहीं  हो  रहा  है । तो वह  आदमी  और  भी  गुस्सा  हो  गया  और  उनके  पूर्वजो  तक  को  बुरी - बुरी  गालियाँ  देने  लगा ।

भगवान  बुद्ध  फिर भी  मुस्कुराते  हुए  आगे  बढ़ते  चले  जा  रहे  थे  और  बुद्ध  पर  कोई  भी  असर  नहीं  होता  देख  कर  वो  आदमी  निराश  हो  गया  और  उनके  रास्ते  से   अलग  हट  गया । उस  आदमी  के  जाते  ही  भगवान  बुद्ध  के  शिष्य  ने  बुद्ध  से  पूछा  कि  भगवान  अपने  उस  दुष्ट  आदमी  की  बातों  का  कोई  भी  मुँह  तोड़  जवाब  क्यों  नहीं  दिया  वह  आदमी  बोलता  रहा  और  आप  मुस्कुराते  रहे  क्यो  क्या  आपको  उसकी  बातों  से  थोड़ी  भी  हानि  नहीं  हुई  ।

बुद्ध   कुछ  नहीं  बोले  और  अपने  शिष्य  को  अपने  पीछे  आने  का  इशारा  किया । कुछ  देर  चलने  के  बाद  वो  दोनों  बुद्ध  के  आश्रम  तक  पहुँच  गये । तब  शिष्य  से  भगवान  बुद्ध  बोले  तुम  यही  पर  रुको  मैं  अंदर  से  अभी आया ।

थोड़ी  देर  बाद  बुद्ध  अपने  कमरे  से  निकले  तो  उनके  हाथ  में  कुछ  गन्दे  कपड़े  थे  उन्होंने  बाहर  आकर  उस   शिष्य  से  कहा ” ये  लो  तुम  अपने  कपडे  उतार  कर  ये  गन्दे  कपडे  पहन  लों  इस  पर  उस  शिष्य  ने  देखा  कि  उन कपड़ों  में  बड़ी  तेज  अजीब  सी  बदबू  आ  रही  थी  इसलिए  उसने  हाथ  में  लेते  ही  गन्दे  कपड़ों  को  दूर  फेंक  दिया ।”

शिक्षा - भगवान  बुद्ध  बोले  अब  समझे  जब  कोई  भी  तुम  से  बिना  मतलब  के  बुरा  भला  बोलता  है  तो  तुम गुस्सा  होकर  उसके  बोले   हुए  अपशब्द  धारण  करते  हो  अपने  साफ़  सुथरे  कपड़ो  ( शब्दो ) की  जगह । इसलिए  जिस  तरह  तुम  ने  अपने  साफ  कपड़ों  की  जगह  पर  गन्दे  कपडे   नहीं  पहने । उसी  तरह  मैं  भी  उस  आदमी  में  फेंके हुए  अपशब्दों  को  कैसे  धारण  करता  यही  कारण  था   कि  मुझे  उसकी  एक  भी  बातों  से  कोई  भी  फर्क  नहीं  पड़ा ।



Friday, November 4, 2016

जिन्दगी का संघर्ष


जंगल  में  सुबह-सुबह  शेर  उठा  और  वह  भूखा  था , नाश्ते  के  लिए  इधर-उधर  देखा  तो  थोड़ी  दूर  पर  एक  हिरण के  बच्चे  पर  उसकी  नजर  पड़ी | शेर  ने  सोचा  नाश्ते  का  इंतजाम  तो  हो  गया  पहले  तो  शेर  ने  अंगडाई  ली  और फिर  जोर  से  दहाड़ा , तो  हिरण  के  बच्चे  ने  देखा  कि  जंगल  का  राजा  सुबह - सुबह  खूँनी  आंखों  से  उसे  देख रहा  है |

उसने  सोचा  आज  तो  मर  गए , उसने  तुरंत  जान  बचाने  के  लिए  दौड़  लगा  दी | उसे  पकड़ने  के  लिए  शेर  दौड़ पड़ा , आगे आगे  हिरण  पीछे-पीछे  शेर  आगे- आगे  हिरन  पीछे - पीछे शेर 10 -15  मिनट  की  दौड़  चलती  रही |  रास्ते में  झाड़ी , तो  कहीं  पत्थर ,  तो  कहीं  चट्टान , तो  कहीं  गड्ढा  आया  लेकिन  हिरण  का  बच्चा  रुका  नहीं  और  थोड़ी  देर  बाद हिरण  का  बच्चा  शेर  की  नजरों  से  दूर  हो  गया | अब  शेर  एक  पेड़  के  नीचे  बैठ  कर  हाँफनें  लगा  और  थक  कर बैठ  गया |

वही  पहाड़  की  चोटी  पर  एक  जवान  शेर  बैठा  था , जो  यह  सारा  मामला  देख  रहा  था |  उसने  ऊपर  से आवाज  लगाई  अंकल  अब  आप  बूढ़े  हो  गए  हो  जंगल  की  बादशाहा  अब  आपके  बस  कि   नहीं  रही आपको  अब  जंगल  को  मेरे  हवाले  कर  देना  चाहिए |  बूढ़ा  शेर  बहुत  ही  समझदार  था ,  उसने  दूसरे  शेर  से  कहा  कि तुम  नीचे  आ  कर  बात  करो |

जब  जवान  शेर  नीचे  आया  तो  उसने  बूढ़े  शेर  ने  कहा  " अब  बताओ  क्या  बोल  रहे  थे "  जवान  शेर  बोला  हद हो  गई  " ताकत  में , आकार में ,  रफ्तार में ,  सोच में , दहशत में , आप  हर  तरीके  से  उस  हिरण  के  बच्चे  से  बेहतर थे |  होना  तो  यह  चाहिए  था  कि , आपकी  दहाड़  सुनकर  ही  उस  हिरण  के  बच्चे  का  हार्ट फेल  हो  जाना  चाहिए था , आपको  देखकर  उसके  पैर  कापने  चाहिए  थे  |

लेकिन  उसने  तो  आपको  ही  भगा - भगा  कर  मार  दिया  कल  जब  यह  खबर  पूरे  जंगल  में पहुंचेगी  की  हिरण  के  बच्चे  ने  जंगल  के  राजा  के  साथ  ऐसा  किया , तो  लोगों  शेरों  की  इज्जत  करना  छोड़  देंगे तो  बेहतर  रहेगा  कि  अब  आप  जंगल  को  मुझे  सौप  दे |  बूढ़ाँ  शेर  कहता  है  कि "  तुम  बिल्कुल  ठीक  कह  रहे  हो  ताकत  में , आकार में ,  रफ्तार में , सोच में  , दहशत में ,  हर  तरीके  से  मैं  हिरण  के  बच्चे  से  बेहतर  था ,  लेकिन  इस  दौड़  में  उसने  मुझे  हराया  तो  इसकी  वजह  सिर्फ  एक  ही  थी  "  उसका  मकसद  मेरे  मकसद  से  बड़ा  था ,  मैं  पेट के  लिए  भाग  रहा  था  और  वह  जान  बचाने  के  लिए | "

दोस्तों  यही  मामला  हमारी  जिंदगी  के  साथ  भी  है ,  जो  लोग  छोटे  सपनों  के  लिए  दौड़ते  हैं , उन्हें  बड़े  सपनों  के लिए  दौड़ने  लोग  उन्हें  पीछे  छोड़  देते  हैं |  जो  सिर्फ  पेट  के  लिए  दौड़ते  है , पढ़ते  है  या  काम  करते  है  वह  हमेशा  पीछे  रह  जाते  हैं , इसलिए  हमेशा  अपने  सपने  बड़े  देखिए  क्योंकि  आप  चाहे  शेर  हो  या  हिरण  जिन्दगी  के  जंगल  में  हर  रोज  सुबह  होने  पर  हिरन  सोचता  है  कि  मुझे  शेर  से  ज्यादा  तेज  भागना  है,  नहीं  तो  शेर  मुझे मार  के  खा  जायेगा।  और  शेर  हर  सुबह  उठ  कर  सोचता  है  कि  मुझे  हिरन  से  तेज  भागना  है,  वरना  मैं  भुखा मर  जाऊंगा।

आप  शेर  हो  या  हिरन,  उससे  कोई  मतलब  नहीं  है। अगर आप  को  अच्छी  ज़िंदगी  जीनी  है,  तो  हर  रोज़  भागना पड़ेगा। "संघर्ष  के  बिना  कुछ  नहीं  मिलता  है।"


Monday, April 11, 2016

हमारी क्षमताएँ

हमारी  क्षमताएँ 


एक  बहुत  बड़ी  इमारत  के  पीछे  बेहद  पुराना  पेड़  था ।  उस  पेड़  पर  एक  बन्दर  और  गौरैया  चिड़िया  का  बसेरा था । एक  दिन  इस  इमारत  में  आग  लग  गई । सारे  लोग  आग  बुझाने  में  जुट  गए । कोई  फायर  ब्रिगेड  को  फोन कर  रहा  था,  तो  कोई  आग  पर  पानी  फेंक  कर  आग  बुझाने  कि  कोशिश  कर  रहा  था ।

बहुत  दु:खी  होकर  चिड़िया  ने  बन्दर  से  कहा-   बन्दर  भाई  हम  भी  कई  सालों  से  इस  इमारत  का  हिस्सा  है  और  हमें  भी   आग  बुझाने  के  लिए  कुछ  करना  चाहिए । यह  बात  सुनते  ही  बन्दर  जोर  से  हँसा  और  बोला -  तू  बित्ते  भर  की  गौरैया  क्या  कर  पाएगी ,  क्या  तुम  इस इमारत  की  आग  बुझा  लेगी ।

 गौरैया  चुप  हो  गई , फिर  थोड़ी  देर  बाद  गौरैया  ने  बन्दर  से  फिर  कहा-  लेकिन  बन्दर  ने  फिर  से  मजाक  उड़ा दिए । अब  गौरैया  से  रहा  नहीं  गया , पेंड़  से  उड़  कर  वह  पास  ही  पानी  के  एक  छोटे  से  गड्ढे  में  गई  और  पानी को  अपनी  चोंच  में  लाकर  आग  पर  डाला । बहुत  देर  तक  वह  उस  गड्ढे  से  पानी  लाकर  डालती  रही । बन्दर  यह  देखकर  लगातार  हँस  रहा  था,  काफी  देर  बाद  बहुत  सारे  लोगों  के  प्रयासों  से  आग  बुझ  गई ।


 गौरैया  के  पेड़  पर  लौटते  ही  बन्दर  ने  कहा -  तुम्हें  क्या  लगता  है  कि  तुमने  अपनी  छोटी  सी  चोंच  से  पानी डालकर  इस  आग  को  बुझाया  है । गौरैया  ने  तिरस्कार  से  बन्दर  को  देखा  और  जवाब  दिया -  सुनो  बन्दर  भाई  इस  बात  से  कोई  फर्क  नहीं  पड़ता  है , कि  मेरी  चोंच  का  साइज  क्या  है।  इस  बात  से  भी  कोई  फर्क  नहीं  पड़ता  कि  आग  को  बुझाने  में  मेरा  योगदान  कितना  था । लेकिन  तुम  यह   बात  हमेशा  याद  रखना  कि   जिस दिन  इमारत  में  आग  लगने  और  बुझाने  का  इतिहास  लिखा  जाएगा,  उस  दिन  मेरा  नाम  आग  बुझाने  वालों  में आएगा  और  तुम्हारा  नाम  किनारे  बैठ  कर  हंसने  वालों  में  आएगा ।


दोस्तों,  यह  सच  है  कि  हम  सब  की  क्षमताएँ  अलग - अलग  है, परिस्थितियां  भी  अलग - अलग  है, योग्यताएँ  भी अलग - अलग  है  या  यूँ  कहूं  कि  हम  सबकी  भी  चोंच  का  साइज  अलग - अलग  है । लेकिन  इस  बात  से  कोई फर्क  नहीं  पड़ता  कि  हमारी  चोंच  का  साइज  क्या  है, फर्क  इस  बात  से  पड़ता  है  कि  हमने  उतना  प्रयास  किया या  नहीं  जितना  हम  कर  सकते  थे  ।  क्या  हमने  अपनी  पूरी  ताकत  झोंकी  या  नहीं , जितना  हम  झोंक  सकते  थे । क्या  हम  अपनी  पूरी  क्षमता  के  साथ  मुश्किल  का  सामना  कर  रहे  हैं  या  नहीं ।

 यदि  हम  भी  इसी  गौरैया  की  तरह  अपने  कार्य  में  जुट  सकते  हैं ?  यदि  हम  तमाम  परिस्थितियों  के  बीच  अपने काम  को  बड़ी  मेहनत  और  लगन  के  साथ  पूरा  कर  सकते  हैं, तो  हमारी  जीत  भी  एक  दिन  निश्चित  है । हमें अपने  जीवन  की  पूरी  जिम्मेदारी  लेनी  होगी,  जीवन  में  किसी  भी  प्रकार  की  बहानेबाजी  या  दोषारोपण  के  लिए जगह  नहीं  होनी  चाहिए । हर  व्यक्ति  दूसरे  को  बदलना  चाहता  है  यही  हमारी  समस्या  का  मूल  आधार  है , दूसरों को  बदलने  के  बजाए  हम  सभी  अपनी  जिम्मेदारी  ले  ले  तो  क्या  नहीं  हो  सकता , अपनी  चोंच  की  साइज  की चिंता  छोड़िए , अपनी  पूरी  ताकत  से  सपनों  को  पाने  की  दिशा  में  जुट  जाइये ।







Saturday, April 9, 2016

Snapdeal, ola cab ,oyo room कि सफलता

इस  उम्र  में  कई  युवा  कॉलेज  में  पढ़ाई  कर  रहे  होते  है। उसी  उम्र  में  भारत  के  कई  युवा  करोड़पति  और अरबपति  बन  रहे  हैं ।  यह  युवा  न  सिर्फ   खुद  पैसा  कमा  रहे  हैं , बल्कि  लोगो  को  भी  जॉब दे  रहे  हैं  ।यह कमाल  हुआ  है  स्टार्ट अप  इन्डस्ट्री  से  तो  आज  हम  बात  करेंगे  एेसे  ही  युवाओं  कि

OYO Room  कि  कहानी 

इन  युवाओं  मे  सबसे  पहले  बात  करेगे  उड़िसा   के  छोटे  से  गाँव  के  रितेश  अग्रवाल  कि  रितेश अग्रवाल  ने  बिना  किसी  बड़े  इनवेस्टमेंट ( निवेश ) के  सस्ते  होटल  को  एेसे  जोड़ा  हैं  कि  आज  उनका  काम  670 करोड़  का  हो  गया  है ।  22 साल  के  रितेश अग्रवाल  भारत  में  OYO Room  को  होटल  बुकिंग  का  सबसे  बड़ा  ब्रांड  बना  दिया  है ।

13 साल  कि  उम्र  से  ही  रितेश अग्रवाल  देश  के  अलग - अलग  हिस्सो  में  घूमते  थे , कभी  उन्हें  सस्ते  होटल  या  रूम  मिल  जाते  तो  कभी  महंगे  होटल  और  रूम  उन्हीं  दिनों  रितेश अग्रवाल  को  बजट  होटल  का  आइडिया  आया  सोचा  कि  कुछ  एेसा  किया  जाए  कि  हर  किसी  को  एक  जैसे  बजट  में  सस्ते  और  अच्छे  होटल  मिल  सके । जेब  में  पैसे  नहीं  थे  कि  खुद  का  होटल  शुरू  कर  सके  इसलिए  दूसरों  के  होटल  के  साथ  मिलकर  670 करोड़  का  बिजनेस  खड़ा  कर  दिया । पहले  पाटर्नर  के  साथ  मिलकर Orwill  नाम  कि  कंपनी  शुरू  कि  बाद  में  बदलाव  लाकर  खुद  कि OYO Room  नाम  कि  कंपनी  शुरू कि ।मई 2013 में  केवल एक  होटल  बुकिंग  से शुरू  हुआ  कारोबार  आज 1200 + होटल  बुकिंग  और  40,000  से  ज्यादा  लोगों  को  नौकरी  मिली है । रितेश अग्रवाल  कभी  कॉलेज  भी  नहीं  गए  और  सिर्फ  22 साल  कि  उम्र  में  वह OYO Room  के  मालिक  है  रितेश आग्रवाल  कि  कामयाबी  का  सफर  अब  और  भी  तेजी  से  बढ़  रहा  हैं । रितेश अग्रवाल  ने  कम  कीमत  में  अच्छे  होटल  में  रूकने  का  लोगों  का  सपना  सच  कर  दिया  है ।

स्नेपडील  कि  कहानी 

IIT  दिल्ली  के  छात्र  कुणाल  बहल  ने  5  साल  पहले  अपने  दोस्त  रोहित  बंसल  के  साथ  मिलकर  एक  ई - कॉमस  कंपनी  का  सपना  देखा , देखते  ही  देखते  आज  यह  सपना  1.4 बिलियन  डॉलर   का  हो  गया  है । इनकी  वेबसाइट  Snapdeal  पर  आपको  सभी  चींजे  मिल  जाएगी  जिसकी  जरूरत  आपको  रोजमर्रा  के  कामों  मे  होती  है।  रोहित  बहल  ने  अपने  कारोबार  कि  शुरुआत  2010  में  मनी  सेवर  नाम  कि   कूपन  कंपनी  से  शुरू  किया , कारोबार  अच्छा  चल  रहा  था  लेकिन  कुणाल  के  सपने  बड़े  थे ।  इसी  दौरान  दोनों  दोस्तो  कि  नजर  अलीबाबा  शॉपिंग  साइट  पर  गई  यह  भी  कुछ  एेसा  ही  करना  चाहते  थे ,दोनों  ने  अॉनलाइन  शॉपिंग  पोर्टल  Snapdeal.Com  शुरू  कर  दिया । कुणाल  और  रोहित  जैसे  लोग  अपनी  तकदीर  खुद  लिखने  वालों  में  से  एक  है ,यह  लोग  नौकरी  देने  में  विश्वास  करते  है ।

Snapdeal  कि  कामयाबी  का  सफर

* 2011 में  Snapdeal  ई- कॉमर्स  कंपनी  बनी ।
* तब  यह  डेली  बेस  पर  डील  करती  थी ।
* फिर  साइट  ने  प्रोडक्ट  रिटेलिंग  का  काम  शुरू  किया ।
* यहीं  से  कंपनी  ने  कामयाबी  की  सिढ़ियां चढ़ी ।
* Snapdeal , flipcart  के  बाद  देश  कि  दूसरी  सबसे  बड़ी  शॉपिंग साइट  है ।
* Snapdeal  का  सालाना  टर्नओवर  1.4  बिलियन डॉलर  का  हैं ।
* Snapdeal  के  पास  विदेशी  ग्रुप  के  अलावा रतन  टाटा  जैसे  ग्रुप  ने  भी  इन्वेस्ट  किया  है ।

OLA cab  कि  कहानी 

भारत  में  कामयाब  स्टार्ट अप  में  से  एक  है  OLA Cab ।
1.2 बिलियन  डॉलर  के  साथ  Ola  भारत  कि  तीसरी  सबसे  बड़ी  स्टार्ट अप  कंपनी  है । एक  सफर  के  दौरान  हुई  परेशानी  ने  भावेश  को  एक  ऐसा  अॉइडिया  दे  दिया  जिसने  देश  में  यात्रा  जगत  में  क्रांति  लेकर  आ  गया । आप  घर  पर  आराम  से  रहे  और  टैक्सी  वाला  आपके  घर  पहुँच  जाता  है  यह  संभव  हुआ  है  OLA Cab  जैसी  मोबाईल  एप  से   बुक  होने  वाली  Cab  कि  वजह  से,  देश  में  अॉनलाइन  Cab  बुकिंग  सर्विस  श्रेय  जाता  है  भावेश अग्रवाल  को  IIT  मुम्बई  से  पास  29  साल  के  भावेश  अग्रवाल  ने  दोस्त  अंकित  भाटी  के  साथ  OLA. Cab  कि  शुरुआत  की  । IIT  मुम्बई  पास  करने  के  बाद  भावेश  अग्रवाल  ने  दो  साल  माइक्रोसाफ्ट  में  नौकरी  कि  उसके  बाद  एक  अॉनलाइन  कंपनी  शुरू  कि  जो  टूर  एड  ट्रेवल  पैकेज  बेचती  थी ।इसी  कारोबार  के  दौरान  उन्हें  एक  बार  टैक्सी   लेनी  पड़ी  यह  अनुभव  बहुत  बेकार  रहा  टैक्सी  ड्राइवर  ने  बीच  में  भावेश  अग्रवाल  से  और  पैसे  माँगना  शुरू  कर  दिया  पैसे  नहीं  दिए  तो  रास्ते  में  ही  उतार  दिया । तब  भावेश  ने  सोचा  कि  एेसा  ही  न  जाने  कितने  लोगों  के  साथ  होता  होगा ,तब  भावेश अग्रवाल  को  Ola  cab  का  अॉइडिया  आया और  2011 में  ओला  टैक्सी  सर्विस  की  शुरूआत  की  जो  सस्ती  हो  और  अपने  वादे  पर  टिके  रहने  वाली  हो ।दोस्त  अंकित  के  साथ  मिलकर  3.3 लाख  डॉलर  के  निवेश  के  साथ  कंपनी  शुरू  कि  आज  कंपनी  1.2 बिलियन  डॉलर  टर्नओवर  से  ज्यादा  की  है ।
(नोट :- सभी चित्र Google से  साभार)

Friday, April 8, 2016

जीवन के तूफान

जीवन  के  तूफान

कैलेफोनिया  अमेरिका  दुनिया  की  सबसे  ठंडी  जगहों  में  से  एक जगह  हैं ।कैलेफोनिया  के  उत्तरी  छोर  पर  एक किसान  रहता  था ,उसे  अपने  खेतों  में  काम  करने  वाले  लोगों  की  जरूरत  पड़ती  थी , लेकिन  ऐसी  जगह  पर  कोई  काम  करने  को  तैयार  नहीं  होता  था । जहाँ  पर  आए  दिन  हरिकेन  जैसे  भीषण  तूफान  आते  रहते  हो ।

उस  किसान  ने  एक  दिन  शहर  के  समाचार पत्र  में  विज्ञापन  दिया  कि  उसे  खेतों  में  काम  करने  वाले  मेहनती  मजदूरों  की  जरूरत  है । किसान  से  मिलने  के  लिए  कई  लोग  आए , लेकिन  उनमें  से  कोई  भी  काम  करने  को तैयार  नहीं   हुआ ।

अंत  मे  किसान  के  पास  एक  बुजुर्ग  काम  करने  को  तैयार  हो  गया ।  किसान  ने  उस  बुजुर्ग  से  पूछा " क्या  तुम इन  परिस्थितियों  में  काम  कर  सकते  हो । तो  उसने  कहां  मैं  काम कर  सकता  हूं , लेकिन  जब  हवा  चलती  है  तब मैं  सोता  हूं , उस  बुजुर्ग  ने  उत्तर  दिया । किसान  को  उसका  उत्तर  थोड़ा  अजीब  लगा  लेकिन  उसे  कोई  और  काम  करने  वाला  नहीं  मिल  रहा  था , इसलिए  उसने  उस  व्यक्ति  को  काम  पर  रख  लिया ।

मजदूर  मेहनती  निकला  वह  सुबह  से  शाम  तक  खेतों  में  काम  करता  और  किसान  भी  उसे  काफी  संतुष्ट  था। अभी  कुछ  ही  दिन  बीते  थे  , कि  एक  रात  अचानक  जोर - जोर  से  हवा  बहने  लगी  । किसान अपने  अनुभव   से समझ  गया  था , कि  अब  तूफान  आने  वाला  है। वह  तेजी  से  उठा  और  हाथों  में  लालटेन  ली  और  मजदूर  के झोपड़े  के  तरफ  दौड़ते-दौड़ते  पहुँचा  और  किसान  ने  मजदूर  से  कहा - " जल्दी  उठो  तुम  देखते  नहीं  कि  तूफान आने  वाला  है , इससे  पहले  कि  तूफान  सब  कुछ  खत्म  कर  दे  ।  तुम  सभी  कटी  फसलों  को  बाँध  कर  रख  दो और  गायों  के  घर  के  गेट  को भी  रसियों  से  बांध  दो ,किसान  ने  जोर  से  बोला ।

मजदूर  बड़े  आराम  से  पलटा  और  बोला -"  मैंने  आपसे  पहले  ही  कहा  था , कि  जब  हवा  चलती  है  तो  मैं  सोता हूं ।" यह  सुनकर  किसान  का  गुस्सा  सातवें  आसमान  पर  पहुंच  गया  लेकिन  अभी  किसान  आने  वाले  तूफान  से चीजों  को  बचाने  के  लिए  भागा । भागते - भागते  वह  अपने  खेत  पर  पहुंचा , किसान   जब  खेत  पर  पहुंचा  तो  उसकी  आंखें  आश्चर्य  से  खुली  रह  गई,  उसकी  कटी  फसलों  की  गांठ  अच्छी  तरीके  से  बंधी  हुई  थी  और  वह  ढकी  हुई  थी । उसके  गाय - बैल  सुरक्षित  बंधे   हुए  थे  और  उनका  गेट  भी  जोर  से  बंधा  हुआ  था ।

किसान  कि  सभी  चीजें  बिल्कुल  व्यवस्थित  थी , तूफान  से  नुकसान  होने  की  कोई  भी  संभावना  नहीं  बची  थी। किसान  मजदूर  की  यह  बात  समझ  गया  था  कि  जब  हवा  चलती  है, तब  मैं  सोता  हूं , और  अब  किसान  भी   चेंन  से  सो  सकता  था ।

दोस्त , हमारी  जिंदगी  में  भी  कुछ  ऐसे  ही  तूफान  अाने  तय  है,  ज़रूरत  इस  बात  की  है  कि  हम  भी  उस  मजदूर की  तरह  पहले  से  ही  तैयारी  करके  रखें, ताकि  मुसीबत  जैसे  तूफान  आने  पर  हम  भी  चैन  से  सो  सकें ।
जैसे  यदि  कोई  छात्र  शुरू  से  पढ़ाई  करे  तो  वह  परीक्षा  के  समय  वह  आराम  से  तैयारी  कर  सकता  है  , और  यदि  हम  हर  महीने  कुछ  बचत  करे  तो  पैसों  की  जरूरत  पड़ने  पर  निश्चित  समय  पर  वह  हमारे  काम  आ  सकते  हैं ।  इत्यादि  तो  चलिए  आज  से  हम  भी  कुछ  ऐसा  ही  करें  कि जब  हमारी  जिन्दगीं  में  तूफान  आए  तो  हम  भी  चैन  से  सो  सके ।

Sunday, April 3, 2016

कर्तव्य

कर्तव्य


एक  वकील  थे । उनकी  वकालत  खूब  चलती  थी । एक  बार   वे  एक  हत्या  का  मुकदमा  लड़  रहे  थे,  तभी  गांव  में  उनकी  पत्नी  बहुत  बीमार  हो  गई। बीमारी  गंभीर  थी,  इस  कारण  वकील  साहब  गांव  पहुंच  गए । वे  अपनी पत्नी  की  देखभाल  में  लगे  हुए  थे,  इसी  बीच  मुकदमे  की  तारीख  पड़ी । वकील  साहब  चिंता  में  पड़  गया । अगर वे  पेशी  पर  नहीं  पहुंचे  तो  उनके  मुवक्किल  को  फांसी  की  सजा  हो  सकती  थी । पति  को  असमंजस  में  पड़ा  देख  पत्नी  ने  कहा , " आप  मेरी  चिंता  न  करें।  पेशी  पर  शहर  जरुर  जाएं। भगवान  सब  अच्छा  करेंगे ।"

मुकदमा  लड़ने  के  लिए  वकील  साहब  दुखी  मन  से  शहर  चले  गए । अदालत  में  मुकदमा  पेश  हुआ । सरकारी वकील  ने  दलील  देकर  यह  साबित  करने  की  कोशिश  की  कि  मुलजिम  कसूरवार  है  और  इसके  लिए  फांसी  से  कम  कोई  सजा  नहीं  हो  सकती  है।

 वकील  साहब  बचाव  पक्ष  की  ओर  से  बाहस  करने  लगे । थोड़ी  देर  बाद  उनके  सहायक  ने  एक  टेलीग्राम (telegram)  लाकर  उनके  हाथ  में  दे  दिया । वकील  साहब  कुछ  क्षण  के  लिए  रुक  गए।  उन्होंने  तार  पढ़कर अपने  कोट  की  जेब  में  रख  लिया  और  फिर  बाहस  करने  में  लग  गए । अपनी  बहस  में  उन्होंने  यह  साबित  कर दिया  कि  उनका  मुवक्किल  निरपराध  है  और  उसे  रिहा  कर  दिया जाए ।

बहस  के  बाद  मजिस्ट्रेट  ने  अपना  फैसला  सुनाया,  "मुलजिम  बेकसूर  है  इसे  छोड़  दिया  जाए ।"  मुवक्किल, उसके  साथी  और  दूसरे  वकील  मित्र  अदालत  के  बाद  बधाई  देने  के  लिए  वकील  साहब  के  कमरे  में  आए। वकील  साहब  ने  अपने  मित्रों  को  वह  तार  दिखाया । तार  में  लिखा  था- " आपकी  पत्नी  का  देहांत  हो  गया  है।"

 इसके  बाद  वकील  साहब  ने  अपनी  सारी  बातें  बता  दी । इस  पर  उनके  मित्रों  ने  कहा  आपको  अपनी  बीमार पत्नी  को  छोड़  कर  नहीं  आना  चाहिए  था। वकील  साहब  ने  कहा, " दोस्तों  अपनत्व  से  बड़ा  कर्तव्य  होता  है  और  कर्तव्य  निभाने  से  ही  असली  सुख  प्रप्त  होता  है।"   वह  वकील  थे -  भारत  की  एकता  और  अखंडता  के निर्माता  लौहपुरुष  सरदार  वल्लभ  भाई  पटेल ।



Saturday, April 2, 2016

जीवन की यात्रा

जीवन  की  यात्रा

बोधिसत्व  का  जन्म  वाराणसी  जिले  के  बंजारों  के  कुल  में  हुआ  था । बंजारों  का  काम  माल  ले  जाकर  एक स्थान  से  दूसरे  स्थान  तक  पहुंचाने  का  था । युवा  बोधिसत्व  को  500  बैल गाड़ियों  पर  सामान  लादकर  ले  जाना  था और  उन्हें  बेचना था । अतः उन्होने  सामान  लदकर  अपने  बंजारे  साथियों  से  कहा,  " मित्रों  हम  जिस  मार्ग  से  यात्रा  करेंगे , उस  मार्ग  पर  विषेले  फल, पात्ते  और  फूल  आदि  मिलेंगे ।


यदि  कोई  ऐसी  वस्तुएं  दिखे  जो  तुमने  पहले  कभी  ना  खाई  हो  तो  उसे  मुझसे  पूछे  बिना  मत  खाना।  कई   दुष्ट  चावला  आदि  में  भी  विष  मिलाकर  रख  देते  हैं । उन्हें  खाने  वाला  जीवित  नहीं  बचता  है, अतः  ऐसी  कोई भी  वस्तु  को  ना  खाए ।

थोड़ी  देर  बाद  कारवां  आगे  बढ़ने  लगा । वन  में  बंजारों  को  भी  पत्तों  पर  मधुफल  आदि  खाद्य  पदार्थ  मिले ।बोधिसत्व  के  कुछ  बंजारे  साथी  अत्यंत  असंयमी  थे ।अतः  वह  स्वयं  को  रोक  न  सके  और  उन  खाद्य  पदार्थों  को खा  कर  मर  गए,  कुछ  बंजारें  उसे  हाथ  में  लेकर  बोधिसत्व  के  आने  की  प्रतीक्षा  करने  लगे  । जब  बोधिसत्व  वहां  पहुंचे  तो   जिन्होंने  पहले  वह  मधुफल  खा  लिया  था  , उनको  मारा  पाया  अतः  वह  कुछ  ना  कर  सके  बाद में  मधुफल  खाने  वालों  को  उन्होने  उल्टी  करवायी  और  उपचार  किया । इस  प्रकार  उन्हें  नया  जीवन  मिला।

बोधिसत्व  सकुशल  अपने  मंजिल  तक  पहुंचे  और  वहां  सामान  बेचकर  अपने  बंजारे  साथियों  के  साथ  घर  वापस लौटे  इस  कहानी  से  हमें  यह  शिक्षा  मिलती  है  कि  जीवन  एक  यात्रा  है,  यहां  पर  विशेष  प्रकार  के  विषय - भोग बिखरे  पड़े  हैं   जिनमें  तीक्ष्ण  विष  है।  बुद्धिमान  व्यक्ति  महापुरुषों  के  अनुभव  से  लाभ  उठाते  हैं  और  स्वयं  पर नियंत्रण  रखते  हुए  शांतिपूर्ण  जीवन  व्यतीत  करते  हैं  जो  व्यक्ति  की  आत्म  संयम  को  छोड़  देता  है  वह  पाप बंधनों  को  पकड़कर  अपने  जीवन  को  दुखपूर्ण  बना  लेते  है ।

Motivational Stories

View more

Inspirational Stories

View more

Success Mantra

View more

Swami Vivekanand

View more

Poetry

View more

Self Development

View more