Monday, November 21, 2016

गाली का जवाब

गाली का जवाब ,siddhartha birth biography of mahatma buddha in hindi history of gautam buddha in hindi life history of mahatma buddha gautam buddha story life history of lord buddha gautam buddha biography in hindi language biography of lord buddha in hindi


भगवान  बुद्ध  एक  दिन  अपने  एक  शिष्य  के  साथ  सुबह  की  सैर  कर  रहे  थे । तभी  अचानक   एक  आदमी  उनके पास  आया  और  भगवान  बुद्ध  को  बुरा  भला  कहने  लगा । उसने  बुद्ध  के  लिए  बहुत  सारे  अपशब्द  कहे  लेकिन बुद्ध  फिर  भी  मुस्कुराते  हुए  चलते  रहे । उस  आदमी  ने  देखा  कि  बुद्ध  पर  कोई   भी  असर  नहीं  हो  रहा  है । तो वह  आदमी  और  भी  गुस्सा  हो  गया  और  उनके  पूर्वजो  तक  को  बुरी - बुरी  गालियाँ  देने  लगा ।

भगवान  बुद्ध  फिर भी  मुस्कुराते  हुए  आगे  बढ़ते  चले  जा  रहे  थे  और  बुद्ध  पर  कोई  भी  असर  नहीं  होता  देख  कर  वो  आदमी  निराश  हो  गया  और  उनके  रास्ते  से   अलग  हट  गया । उस  आदमी  के  जाते  ही  भगवान  बुद्ध  के  शिष्य  ने  बुद्ध  से  पूछा  कि  भगवान  अपने  उस  दुष्ट  आदमी  की  बातों  का  कोई  भी  मुँह  तोड़  जवाब  क्यों  नहीं  दिया  वह  आदमी  बोलता  रहा  और  आप  मुस्कुराते  रहे  क्यो  क्या  आपको  उसकी  बातों  से  थोड़ी  भी  हानि  नहीं  हुई  ।

बुद्ध   कुछ  नहीं  बोले  और  अपने  शिष्य  को  अपने  पीछे  आने  का  इशारा  किया । कुछ  देर  चलने  के  बाद  वो  दोनों  बुद्ध  के  आश्रम  तक  पहुँच  गये । तब  शिष्य  से  भगवान  बुद्ध  बोले  तुम  यही  पर  रुको  मैं  अंदर  से  अभी आया ।

थोड़ी  देर  बाद  बुद्ध  अपने  कमरे  से  निकले  तो  उनके  हाथ  में  कुछ  गन्दे  कपड़े  थे  उन्होंने  बाहर  आकर  उस   शिष्य  से  कहा ” ये  लो  तुम  अपने  कपडे  उतार  कर  ये  गन्दे  कपडे  पहन  लों  इस  पर  उस  शिष्य  ने  देखा  कि  उन कपड़ों  में  बड़ी  तेज  अजीब  सी  बदबू  आ  रही  थी  इसलिए  उसने  हाथ  में  लेते  ही  गन्दे  कपड़ों  को  दूर  फेंक  दिया ।”

शिक्षा - भगवान  बुद्ध  बोले  अब  समझे  जब  कोई  भी  तुम  से  बिना  मतलब  के  बुरा  भला  बोलता  है  तो  तुम गुस्सा  होकर  उसके  बोले   हुए  अपशब्द  धारण  करते  हो  अपने  साफ़  सुथरे  कपड़ो  ( शब्दो ) की  जगह । इसलिए  जिस  तरह  तुम  ने  अपने  साफ  कपड़ों  की  जगह  पर  गन्दे  कपडे   नहीं  पहने । उसी  तरह  मैं  भी  उस  आदमी  में  फेंके हुए  अपशब्दों  को  कैसे  धारण  करता  यही  कारण  था   कि  मुझे  उसकी  एक  भी  बातों  से  कोई  भी  फर्क  नहीं  पड़ा ।